Friday, September 3, 2010

2 comments:

सुनीता शानू said...

बिल्कुल सही निशांत जी। अच्छा खासा व्यंग्य बन जाता है कार्टून के जरिये। बधाई।

Halke-Fulke said...

tippni ke liye dhanyawad